PF का पैसा कम मिलने के तीन कारण

PF का पैसा कम मिलने के तीन कारण

पीएफ एक बेहतरीन भविष्य निधि जमा पूंजी है जो हमें भविष्य में कभी भी जरूरत पड़ने पर काम आती है और अब तो ऑनलाइन सुविधा आ जाने के कारण जब भी हमें पैसों की जरूरत पड़े तो अपने पीएफ खाते से नौकरी करते हुए भी एडवांस पीएफ निकाल सकते हैं |लेकिन कुछ ऐसे भी कारण होते हैं जिनकी वजह से आपके पासबुक में दर्शाई गई पीएफ रकम वास्तविक में आपको नहीं मिलती है| तो आज इस पोस्ट में हम आपको तीन ऐसे कारण बताएंगे जिसकी वजह से आपकी PF की वास्तविक रकम नहीं मिल पाती है|

ध्यान दें :
आपको बताना चाहूंगा कि अगर आप अपना PF पासबुक डाउनलोड करके देखें तो आपको पता चलेगा कि आपके PF में तीन तरह की कंट्रीब्यूशन होती है employee share+employer share तथा pension share इंप्लॉई तथा एंप्लायर शेयर में जितना भी पैसा आपका जमा होता है उसमें आपको किसी भी तरह की कटौती नहीं की जाती है |किंतु पेंशन खाते में जो आपका पैसा जमा रहता है उसकी एक अलग कैलकुलेशन होती है तथा इसमें बहुत से नियम रहते हैं और इसी में आप को कम या ज्यादा पैसा मिलता है| तो चलिए जान लेते हैं वह तीन कारण कौन से हैं-

1. पीएफ निकासी नियम के कारण
यदि आपकी नौकरी 6 महीने (180 दिन) से कम है तथा 9 साल 6 महीने से अधिक है तो इस मामले में आप पेंशन का पैसा नहीं निकाल सकते हैं, केवल आपके पीएफ खाते में जमा अर्थात employee share + employer share का पैसा ही निकाल सकते हैं| क्योंकि साढ़े नौ साल की नौकरी कर लेने पर आप पेंशन के हकदार बन जाते हैं तथा 58 साल की उम्र में आपको मासिक पेंशन मिलने लगेगी|

2. पीएफ में टैक्स कटौती
कई सारे PF कर्मचारी इस बात का ध्यान नहीं रखते कि PF के पैसे में भी टैक्स की कटौती होती है | 2015 के बाद PF के रकम पर नए नियम लगा दिए गए जिसके अनुसार यदि आपकी नौकरी 5 वर्ष से कम है तथा आपकी PF रकम 50,000 से अधिक है तो ऐसे मामले में आपको टैक्स लग सकता है इसके तीन चरण होते हैं-

A) यदि आपने पैन कार्ड epfo को दिया है तथा फॉर्म 15G/15H नहीं भरा है तो 10% टैक्स लगता है|
B) यदि आपने ना ही पैन कार्ड दिया है और ना ही फॉर्म 15G/15H जमा किया है तो इस मामले में आपके PF रकम में से 34% टैक्स लगता है|
C) यदि आपने पैन कार्ड तथा फॉर्म 15G/15H पीएफ फॉर्म के साथ जमा किया है तो आपको किसी भी तरह का टैक्स नहीं लगेगा|

3. पेंशन कैलकुलेशन नियम
जैसा की हमने बताया कि आपकी PF में एंप्लोई शेयर तथा एंप्लायर शेयर का पीएफ कंट्रीब्यूशन जितना जमा होता है ,आपके पीएफ निकासी में उतना ही पैसा आपको मिल जाता है | लेकिन पेंशन कंट्रीब्यूशन में आप की जितनी पैसा जमा हुई रहती है उसका एक अलग गणना के हिसाब से आपको पैसा मिलता है ,जो कि EPFO ने TABLE-D में दर्शाया है-

जैसा कि आप ऊपर देख रहे हैं- यहां पर 1 साल से लेकर 9 साल की सर्विस पीरियड के पेंशन कैलकुलेशन की नियम दर्शाई गई है| अर्थात यदि आपकी एवरेज बेसिक सैलरी ₹10000 हैं और आपने 1 साल नौकरी की है तो आप को पेंशन का पैसा कुछ इस तरीके से मिलेगा
10000 X 1.02 = 10,200
इस तरह आपको पेंशन का ₹10200 मिलेगा|

इसी तरह यदि आपने 9 साल नौकरी की है तो
10000 X 9.33 =93,300
तो इस तरह आपकी पीएफ में जितनी रकम जमा होती है उतनी ही रकम आपको मिल जाती है किंतु पेंशन में आपको इस कैलकुलेशन के हिसाब से पैसा मिलता है |

पीएफ संबंधित कुछ महत्वपूर्ण सवाल-जवाब

सवाल  – यदि मैंने 1 साल 4 महीना नौकरी की है तो क्या इसे 2 साल गिना जाएगा?
जवाब – नहीं ,क्योंकि 6 महीने की सर्विस को 1 साल मानी जाती है इसलिए आपकी 1 साल 4 महीने की नौकरी 1 साल की ही गिनती में आएगी यदि आपने 1 साल 6 महीने नौकरी की है तब आपकी नौकरी 2 वर्ष मानी जाएगी|

सवाल -क्या पेंशन में भी ब्याज मिलता है?
जवाब -नहीं आपके EPF में जमा राशि पर आपको ब्याज दिया जाता है किंतु आपके पेंशन में जमा राशि पर किसी भी तरह का ब्याज नहीं दिया जाता|

सवाल – क्या ऑनलाइन पीएफ निकालने पर भी फॉर्म 15G/15H जमा करना चाहिए?
जवाब – हां ,भले ही आप को फॉर्म 15G/15H ऑनलाइन जमा करने का ऑप्शन नहीं मिलता ,किंतु आप अपने संबंधित pf ऑफिस की ईमेल ID पर फॉर्म 15G/15H भेज दें ताकि आपको किसी भी तरह का नुकसान ना झेलना पड़े, तथा अपनी UAN KYC में अपना पैन कार्ड अप्रूव तथा वेरीफाई जरूर करवा कर रखें|

14 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.