Gratuity kya hai?ग्रेच्युटि क्या है?कैसे करें कैलकुलेट?

Gratuity kya hai?ग्रेच्युटि क्या है?कैसे करें कैलकुलेट?

कंपनी में कार्यरत कर्मचारियों के मन में PF,ESIC,PENSION के अलावा ग्रेजुएटी भी एक ऐसा विषय है जिसके बारे में बहुत से सवाल आते हैं जैसे कि-ग्रेच्युटी क्या है…? ग्रेच्युटी कैसे कैलकुलेट की जाती है…? मैं कब ग्रेच्युटी का हकदार बनूंगा…? ग्रेच्युटी के तौर पर मिली कितनी रकम टैक्स-फ्री होगी, और कितनी ग्रेच्युटी पर इनकम टैक्स देना होगा…? ये कुछ ऐसे सवाल हैं, जो लगभग हर नौकरीपेशा इंसान के दिमाग में घूमते रहते हैं|

ग्रेच्युटि क्या है? gratuity kya hai? what is gratuity?

ग्रेच्युटी वह इनाम या उपहार है जो कर्मचारी को उसके लंबे समय तक काम करने के बदले नियोक्ता द्वारा दिया जाता है दूसरे शब्दों में हम इसे अपना मेहनताना या फिर वेतन भी कह सकते हैं क्योंकि यहां हमें नकदी के रूप में पैसा मिलता है,और यह नौकरी छोड़ने या खत्म हो जाने पर कर्मचारी को नियोक्ता द्वारा दिया जाता है|

ग्रेच्युटि कब मिलता है? Gratuity kab milta hai?

वैसे तो ग्रेच्युटी उसी कर्मचारी को दिया जाता है जिसने अपने नौकरी लगातार 5 साल पूरी कर ली हो,ऐसे कर्मचारी की सेवा को पांच साल की अनवरत सेवा माना जाता है,लेकिन यदि कोई कर्मचारी 4 साल 10 महीने और 11 दिन नौकरी करके भी छोड़ देता है तो वह भी ग्रेच्युटी का हकदार बन जाता है, इसका मतलब यदि आप बार-बार नौकरी छोड़ते रहते हैं तो आप कभी भी ग्रेच्युटी का हकदार नहीं बन पाएंगे इसके लिए आपको लगातार किसी कंपनी में 5 साल कार्य करना जरूरी है|

ग्रेच्युटी कैसे कैलकुलेट करें? gratuity kaise calculate kare?
ग्रेच्युटी कैलकुलेट करने का फॉर्मूला ज़्यादा मुश्किल नहीं है. पांच साल की सेवा के बाद सेवा में पूरे किए गए हर साल के बदले अंतिम महीने के बेसिक वेतन और महंगाई भत्ते को जोड़कर उसे पहले 15 से गुणा किया जाता है, फिर सेवा में दिए गए सालों की संख्या से, और इसके बाद हासिल होने वाली रकम को 26 से भाग दे दिया जाता है, और वही आपकी ग्रेच्युटी है. इसका फार्मूला कुछ इस तरीके से है…

[(अंतिम माह का बेसिक वेतन + महंगाई भत्ता) x 15 x सेवा में दिए गए साल] / 26

मान लीजिए, आपने किसी संस्थान में 21 साल 11 महीने नौकरी की है, और आपकी अंतिम बेसिक सैलरी 22,000 रुपये थी, जिस पर आपको 24,000 रुपये महंगाई भत्ता मिलता था… सबसे पहले यह समझिए, यहां आपकी नौकरी 22 साल की मानी जाएगी… इसके बाद आप 22,000 और 24,000 की रकमों को जोड़ेंगे, जिनसे आपके पास 46,000 की रकम आएगी. इस रकम को 15 से गुणा करने पर 6,90,000 मिलेगा. फिर इस रकम को आपको अपनी सेवा के साल, यानी 22 से गुणा करना होगा, और अब आपको 1,51,80,000 की रकम हासिल होगी. अब अंत में इस रकम को आप 26 से भाग देंगे, तो आपको मिलेगा 5,83,846, और बस, यही आपकी ग्रेच्युटी है.

क्या ग्रैच्युटी में टैक्स् भी लगता है...?

Gratuity Act के तहत निश्चित फार्मूला के हिसाब से दिए गए gratuity यदि 20,00,000 रुपये है तो उस पर किसी तरह का टैक्स नहीं लगता है|यानी 20 लाख रुपये तक की ग्रेच्युटी के तौर पर मिलने वाली पूरी रकम टैक्स-फ्री होगी, यानी उस पर आपको किसी भी तरह का कोई टैक्स नहीं देना होगा.

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published.