EPFO ने निकासी के नियमों में किया बदलाव

EPFO ने निकासी के नियमों में किया बदलाव

EPFO संगठन ने भविष्य निधि से 10 लाख रुपये से अधिक की निकासी को ऑनलाइन दावा करना अनिवार्य कर दिया था.कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने हाल ही में अपने कुछ नियमों में बदलाव किया है. यह बदलाव 10 लाख रुपये या इससे अधिक के पीएफ खाताधारकों से संबंधित है. यह नियम 13 अप्रैल से लागू किया गया है. इससे पहले संगठन ने भविष्य निधि से 10 लाख रुपये से अधिक की निकासी को ऑनलाइन दावा करना अनिवार्य कर दिया था.बता दें कि फरवरी के आखिरी सप्ताह में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने भविष्य निधि से 10 लाख रुपये से अधिक की निकासी को ऑनलाइन दावा करना अनिवार्य कर दिया था. ईपीएफओ द्वारा खुद को कागजरहित संगठन बनाने की दिशा में यह एक और कदम उठाया गया था. माना जा रहा है कि इससे हाल फिलहाल में कुछ समस्या आई जिसकी वजह से इतनी जल्दी इस नियम में बदलाव किया गया है. बदले गए नियम के अनुसार ईपीएफओ का कहना है कि ज्यादा रकम निकालने के लिए भी ऑफलाइन फॉर्म भर सकते हैं.
इसके अलावा ईपीएफओ ने कर्मचारी पेंशन योजना (EPS) 1995 से पांच लाख रुपये से अधिक की निकासी के लिए भी ऑनलाइन आवेदन अनिवार्य कर दिया था.केंद्र सरकार ने भविष्य निधि (पीएफ) धारकों की दिक्कतों को देखते हुए 10 लाख रुपये से ज्यादा की निकासी के मामले में ऑफलाइन आवेदन यानी निकासी फॉर्म के जरिए स्वीकार करने का फैसला किया है। इसके अलावा कर्मचारी पेंशन स्कीम (ईपीएस) के तहत पांच लाख रुपये से ज्यादा की निकासी भी ऑफलाइन की जा सकती है। फिलहाल ईपीएफओ अंशधारकों को ऑनलाइन के साथ मैनुअल तरीके से भी दावा दाखिल करने की अनुमति है.ईपीएफओ ने कहा है कि नियमों में बदलाव के बावजूद कर्मचारी चाहें तो ऑनलाइन आवेदन भी कर सकते हैं।