पीएफ ट्रांसफर करने से पहले जान लें ये बात,कहीं बाद में पछताना ना पड़े|

पीएफ ट्रांसफर करने से पहले जान लें ये बात,कहीं बाद में पछताना ना पड़े|

पीएफ ट्रांसफर करने की जरुरत तब पड़ती है जब हम किसी संस्था से नौकरी छोड़ने के बाद किसी संस्था में भर्ती हो जाते हैं ऐसे मामले में हम अपने पिछले संस्था में जमा PF राशि को अपने नए संस्थान में जमा पीएफ खाते में ट्रांसफर करवा लेते हैं और यह फॉर्म 13 ऑनलाइन या ऑफलाइन भर कर कर सकते हैं माना कि आज तक ट्रांसफर करना बहुत ही सरल एवं आसान हो गया है लेकिन आपको शायद यह जानकर हैरानी होगी कि अधिकतर मामलों में पीएफ ट्रांसफर करते वक्त आप की पेंशन की राशि ट्रांसफर नहीं होती है जिन लोगों ने अब तक कभी न कभी अपना पीएफ ट्रांसफर करवाया होगा उन्हें यह बात अच्छी तरीके से पता होगी| PF transfer (पीएफ ट्रांसफर) करने पर employee share और employer share का पैसा ही transfer होता है,लेकिन pension share ट्रांसफर नहीं होता है|

आपको पता होगा जब भी आप किसी कंपनी में या फिर ऐसी जगह जो EPFO के साथ पंजीकृत है | में काम करते हैं | तब आपकी तनख्वाह का 12% आपको, और आपकी तनख्वाह का 12% जिस कंपनी या संस्था में आप काम करते हैं उनको | EPFO में जमा कराना पड़ता है | यहाँ पर ध्यान देने वाली बात यह है की आपकी तनख्वाह से कटा हुआ 12 का 12% तो आपके EPF खाते में चला जायेगा | लेकिन आपके कंपनी द्वारा 3.67% EPF में और 8.33% EPS (Employee Pension Scheme) में चला जाता है |और यही 8.33% आपके EPS यानी pension fund में जमा होता है|

यहॉ pension fund निकासी के लिये तीन स्थिति बनती है-

  1. यदि आप 9 वर्ष 6 महीने यानी साढ़े नौ साल से पहले नौकरी छोड़कर पीएफ निकासी करें(form-19 और 10c जमाकर),तो आपको पीएफ के साथ पेंशन का सारा पैसा मिल जायेगा|
  2. यदि आप किसी कंपनी में 9 वर्ष 6 महीने से ज्यादा नौकरी पर कार्यरत् रहते हैं,तो आपको रिटायरमेंट के बाद(58 की उम्र की हो जाने पर)नियमानुसार पेंशन के रूप में राशि मिलती रहेगी|
  3. और यदि आप नौकरी छोड़ने के बाद पीएफ नहीं निकालना चाहते,और ट्रांसफर कराते हैं,तो आपका पीएफ का पैसा ट्रांसफर हो जायेगा,पर पेंशन फंड लैप्स हो जायेगा|

आखीर ऐसा क्यों होता है-

पीएफ ट्रांसफर करने पर पेंशन फंड क्यों ट्रांसफर नहीं होता?why pension fund not transfer during epf transfer?

EPFO के तहत पीएफ नौकरी छोड़ने के बाद वृद्धावस्था में या बेरोजगारी के समय सबसे बड़ा सहायक होता है,और PF जमा करने का मुख्य उद्देश्य भी यही है कि रिटायरमेंट के बाद व्यक्ति को अपनी जिंदगी जीने में कोई परेशानी ना हो|लेकिन आज हर छोटी से छोटी समस्या होने पर आप अपना पूरा पैसा निकाल लेते है ,जो कि epfo के तहत अनुचित है| हॉलॉकि की EPFO नौकरी करते हुए Advance PF निकालने की भी सुविधा प्रदान करती है,लेकिन अधिकतर कर्मचारी ऐसे होते हैं जो दो या 3 साल में हर नई जगह नौकरी बदलते रहते हैं और एक जगह नौकरी छोड़ने के बाद अपना पूरा PF का पैसा निकाल लेते हैं |पीएफ में समायोजित पेंशन आपके बुढ़ापे के समय बहुत ही कामगार हो सकता है |

यहां पर हम बात कर रहे हैं की PF ट्रांसफर में पेंशन का पैसा ट्रांसफर क्यों नहीं होता है ..?तो इसके लिए epfo के नियम में यह कहा गया है कि किसी भी संस्था को EPS ACT 1995 के तहत इसके लिये छूट प्राप्त हो तभी पेंशन फंड एक स्थान से दूसरे स्थान बदला जा सकता है या स्थानांतरित किया जा सकता है|अर्थात् EPS ACT 1995 पेंशन अंशदान के तहत कोई भी फंड तब तक तबादला नहीं किया जाता जब तक संस्थान (एस) को इसके तहत छूट नहीं दी जाती है|
और यदि आपके पिछले पीएफ के नियोक्ता को इस हेतु छूट प्रदान नहीं है फिर भी यदि आप के वर्तमान नियोक्ता को यह छूट EPFO की ओर से प्रदान की जाती है तो आपके पीएफ ट्रांसफर में पेंशन का फंड भी ट्रांसफर हो सकता है किंतु यदि नियोक्ता को EPF 1995 के तहत छूट प्रदान नहीं है तो PF ट्रांसफर करते वक्त पेंशन का पैसा ट्रांसफर नहीं होगा इसकी विस्तृत जानकारी PDF फाइल डाउनलोड कर भी देख सकते हैं,जिसमें इसके बारे में अाधिकारिक जानकारी दी गई है|

Download PDF-click here

INSTRUCTIONS AND GUIDELINES FOR THE CLAIM FORM 13
Note:
1. Transfer of accounts is required when a member leaves one establishment and joins another and if the EPF
and MP Act 1952 applies on both the establishment.
2. In such case the member has a previous PF Account and a present account and the transfer is affected from
the previous to the present account.
3. Under Transfer, the PF accumulations are sent to the new account with details and the service details are
also sent for the Pension purposes.
4. No fund under the Pension contribution is transferred until the establishment(s) is exempted under the
Pension Scheme.
5. No transfer is done for EDLI fund and the benefits are payable to beneficiaries depending the date of death
which should be while in service and irrespective of any previous employment.

6 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.