न्यूनतम पेंशन दोगुना होने के लिए आखिरी मंजूरी बाकी-मिल सकती है बड़ी खबर!

न्यूनतम पेंशन दोगुना होने के लिए आखिरी मंजूरी बाकी-मिल सकती है बड़ी खबर!

पीएफ कर्मचारियों के लिए एक बड़ी खबर हो सकती है, न्यूनतम पेंशन दोगुना करने का फैसला लगभग साफ हो गया है, अब इसे केवल वित्त मंत्रालय से मंजूरी मिलने की देरी है| कुछ दिन पहले हमने बताया था की न्यूनतम पेंशन राशि ₹1000 से बढ़ाकर ₹2000 करने पर सरकार तथा ईपीएफओ फैसला ले रही है| और यदि ऐसा हो जाए तो देश भर के 40लाख पेंशनधारकों को सीधा-सीधा फायदा पहुंचेगा|

आपको बता दें कि न्यूनतम पेंशन राशि फिलहाल के समय ₹1000 है, जबकि महंगाई दर आसमान छूती जा रही है, ऐसे मामले में वृद्धजन को ₹1000 की मासिक पेंशन में अपना गुजारा करना मुश्किल हो रहा है| ऐसे में यदि न्यूनतम पेंशन राशि ₹1000 से बढ़ाकर ₹2000 कर दी जाए तो सभी पेंशन भोगियों को सीधा-सीधा फायदा पहुंचेगा|

इस मामले में सरकार तथा ईपीएफओ द्वारा इस प्रस्ताव को वित्त मंत्रालय के पास भेज दिया गया है| जहां अंतिम मंजूरी मिलनी बाकी है|और उम्मीद जताई जा रही हैं कि यह प्रस्ताव वित्त मंत्रालय द्वारा अवश्य मंजूरी दे दी जाएगी, क्योंकि इसके लिए सबसे पहले सरकार ने ईपीएफओ को न्यूनतम पेंशन राशि ₹1000 से बढ़ाकर ₹2000 करने का प्रस्ताव रखा था|
जिसे ईपीएफओ ने भी स्वीकार कर इस पर बैठक की गई और अंतिम में इसे पारित हेतु वित्त मंत्रालय के पास भेज दिया गया है|

वित्त मंत्रालय की भी मंजूरी मिल जाएगी इस पर पूरा भरोसा किया जा रहा है, क्योंकि ऐसा होने पर 2019 के लोकसभा चुनाव के पहले वर्तमान सरकार द्वारा कर्मचारियों को एक बड़ा तोहफा होगा और इस पर देश के लाखों कर्मचारियों का वर्तमान सरकार के ऊपर रुझान बढ़ेगा|

3000 करोड़ का अतिरिक्त बोझ
वर्तमान में सरकार द्वारा 813 करोड रुपए का योगदान दिया जाता है न्यूनतम पेंशन के लिए|और यदि न्यूनतम पेंशन दोगुना कर दी जाती है तो ऐसे में ईपीएफओ को ₹3000 करोड़ का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा| सूत्रों के मुताबिक यदि माना जाए तो रिटायरमेंट फंड बॉडी के पास इतना अतिरिक्त पैसा है कि न्यूनतम पेंशन डबल करने का बोझ उठाया जा सकता है| और न्यूनतम पेंशन दोगुना करने पर सरकार का मकसद पेंशन धारकों की सामाजिक सुरक्षा के दायरे को और मजबूत करना है ताकि इससे वे अपने परिवार का भी सही तरह से देखभाल कर सकें|

Add a Comment

Your email address will not be published.