ईपीएफओ में फर्जीवाड़ा, निकाले गए 4 करोड़ रुपये फर्जी खातों में|

ईपीएफओ में फर्जीवाड़ा, निकाले गए 4 करोड़ रुपये फर्जी खातों में|

एंप्लॉयी प्रॉविडेंट फंड ऑर्गनाइजेशन में घोटाला होने की खबर है। यह फ्रॉड ईपीएफओ के द्वारका स्थित ऑनलाइन ऑफिस में हुआ है। बताया गया है कि ईपीएफओ के अकाउंट से करोड़ों रुपये निकाल लिए गए। शुरुआती जांच में करीब 4 करोड़ रुपये निकाले जाने की सूचना है। यह पैसा देशभर में प्राइवेट सेक्टर में जॉब करने वाले हजारों कर्मचारियों का है।

इस मामले में द्वारका सेक्टर-23 थाने में ईपीएफओ की ओर से सोमवार रात शिकायत दर्ज की गई थी। बाद में शिकायत को एफआईआर में बदला गया। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी और ईपीएफओ ऑफिस के एक कर्मचारी को हिरासत में भी ले लिया गया। उससे पूछताछ कर पता लगाया जा रहा है कि घोटाला कितना बड़ा है और इसमें कौन-कौन लोग शामिल हैं।
फर्जीवाड़े की जानकारी वित्तवर्ष खत्म होने के सिलसिले में ईपीएफओ के अकाउंट्स के मिलान के दौरान हुई। देखा गया कि ऑनलाइन कैश ट्रांजैक्शन की रकम खातों में जमा रकम से मेल नहीं खा रही थी। कुछ ट्रांजेक्शन ऐसे अकाउंटस में पाए गए, जिनकी जानकारी ईपीएफओ के सीनियर ऑफिसर्स को भी नहीं है। पहले ईपीएफओ की ओर से ही इस मामले की इंटरनल जांच कराई गई थी।

फर्जी खातों में ट्रांसफर कराया रुपया
ईपीएफओ के इस ऑफिस में दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे देश के ऑनलाइन अकाउंट हैंडल किए जाते हैं। ऑनलाइन ट्रांजैक्शन का काम ईपीएफओ ने आउटसोर्स कर रखा है। विभिन्न अकाउंटों की डेटा एंट्री करने समेत अन्य ऑनलाइन काम जिस कंपनी को दिए गए, उसी के कुछ कर्मचारियों ने फर्जीवाड़ा करके करीब 10 फर्जी नामों और अड्रेस पर बैंक अकाउंट खुलवा लिए। इन्हीं में ईपीएफओ के करोड़ों रुपये ट्रांसफर किए गए। माना जा रहा है कि घोटाले की रकम काफी ज्यादा हो सकती है।